कामुकता बढाकर सभ्यता का रोना

हम पूरब नहीं हैं जहाँ लडके -लडकियों को सेक्स की आजादी है।हम सनातन नहीं रहे जहाँ माँ-बाप बच्चे में यह लक्षण दिखते ही उसके विवाह की तैयारी करने लगते थे या कई समाजों में लक्षण दिखने के पहले ही व्यवस्था करके रखते थे।अर्थात हम अपना समाज कामुक बना रहे हैं।चहूँओर अंगारे धधक रहे है ।कौन कब जल जाए?

फाँसी से सभ्यता की आकांक्षा का विगुल फूक रहे हैं।वह सनातन तपश्चर्यापूर्ण गृहस्थ जीवन भूलकर जो बच्चों के बचपन की आयु को बढाता था।वह पूर्व से बच्चे की जरूरत का इंतजाम सब गलत था।अब हो गये कामुक मरेगें नहीं तब तक बचने का इंतजाम करो।या जल्दी से पश्चिम होकर बच्चों को आजादी दो।

गुनाहगार महत्वपूर्ण नही है यह कामुकता जो आने के बाद मरे बाद जाती है यह चिंता का विषय है।जो हालत हैं उसमें तपश्चर्या असंभव है।इसलिए अगर मोदी सरकार गंभीर है तो सभी आयु के बच्चों को सहमति स्वतंत्र सेक्स की आजादी दे।इसके लिए समाज को व्यवधान करने पर दंडित करे।इसका व्यापक प्रचार करे।सनातनिज्म गया,बचाना नामुमकिन है।

Advertisements

mobs ideas is great ideas-say latest democracy.

सदैव से सत्य के सम्मुख समर्पण कर इंसान और इंसानियत के विचार ने भीड के प्रमाणों को खारिज कर प्रतिक्रिया वाद से रोका है।यह विचार सत्ता के पथदर्शी रहे।आज दुनियाभर के लोकतंत्र सामान्य आदमी की उत्तेजना का नैतृत्व कर रहे हैं।यह उत्तेजित नेतृत्व सामान्य आदमी की मूल जरूरत रोजी रोजगार भी नहीं दिला पा रहे हैं।लेकिन भीड के उत्तेजित अमानवीय विचार का खुलकर नेतृत्व कर रहे हैं।

आज दुनिया के लोकतंत्र इंसान इंसान की हिस्सेदारी छीनकर विकास का गणित समझाते दिख रहे हैं।उनके पास अब विकास की नई क्रांति के सूत्र नहीं बचे हैं।इसलिए दुनिया भर में भय की राजनीति सिर चढकर तांडव कर रही है।इस स्थिति में जो विकास हो सकता था वह भी नहीं होगा।बडी बात यह है कि लोग अपने पूर्व के महापुरुषों को भी (जिन्होंने ने सत्य का सिथ दिया)उतारकर जमीन पर पटक रहे हैं और तत्कालीन प्रतिक्रियावादियों को अपना हीरो बना रहे हैं।

अब न्याय के सिद्धांतों को बदलने की शुरुआत होगी। भीड के पक्ष में न्याय ,न्यायाधीश के लिए जरूरी होगा।

हम एक नई दुनिया में जा रहे हैं हम अपने अपने कबीले बनाने जा रहे हैं।लोकतंत्र में भीड के विचार को महान विचार घोषित कर आसानी से सत्ता हासिल हो रही है।

कितना काम है?

फुली ओटोमेटिक वाशिंग मशीन में भी

कपडे डालो,सर्फ डालो,सेट करो

कपडे निकालो ,कपडे सुखाओ

कपडे उठाओ,कपडे समेटो

कपडे प्रेस को दो, गृहरानियों के लिए

सनातन धोबी कल्चर का मुकाबला नहीं

जहाँ कोई झंझट न था, गृहरानियों को

क्या मौज थी मामूली अमीरों की भी

कहाँ पटक दिया सबको लाकर फकीरी में

हे कवि

हे कवि तुम कुछ ऐसा लिखो
जो सब की समझ में पडे
क्यों जटिलता में पडकर
साहित्य में छिपतेे हो
मैं तुम्हारी कविता
एक अनपढ को सुनाउंगा
वह शाम अपनी व्यथा
शराब मेंं नहीं
तुम्हारी कविता मेें
भिगोएगा।

भारत माँ की जय?

कोई अपनी माँ की जय सडकों पर लगाता है?माँ के प्रेम का प्रदर्शन सनातन मूल्यों में वर्जित है।भारत माँ की जय ,वन्देमातरम ,हर हर महादेव,जय माँ काली यहाँ तक अल्लाह ओ अकबर आदि युद्ध उद्घोष हैं।इनका प्रशिक्षण भी ध्वज के सम्मुख पंक्तिबद्ध हो किए जाने की परम्परा रही है।युद्ध माहौल में यह गूंज देश की गली गली में फूट पडती है।

सडकों रैलियों कावड धार्मिक आयोजन में यह नारे सुनकर पता किया तो पता लगा कि यह किसी राष्ट्र प्रेम में नहीं अपितु कुछ लोग चिढते हैं इसलिए लगाए जा रहे हैं।एक युद्ध में परम आवश्यक भावनात्मक हथियार को चिढाने तथा राजनीतिक लाभ के लिए प्रयोग कर निष्प्रभावी बना दिया गया।कल जब हमारे सैनिक युद्ध को जाएंगे तो यह नारे अप्रभावी हो जाएंगे।इन तथ्यों से भिज्ञ कराने के बाद वह स्वम के राजनीतिक लाभ को प्रमुखता देते हुए पुनः भारत माँ की जय डीजे साउण्ड लगाकर लगाने लगे।यह वैसा ही हो गया कि एक भाई जो अथक परेशानी में माँ की चुपचाप सेवा में लगा हो ओर दूसरा भाई एक घंटे के लिए माँ के पास आ एक सेल्फी लेकर फेसबुक, व्हाट्सएप ट्युटर में पोस्ट कर माँ भक्त हो जाए।संपूर्ण समाज उस पोस्ट पर लाईक और कोमेण्ट करने लगे।इस भारत माँ की गूँज ,भारत माँ जय कहीं प्रकट नहीं है।